Here we have the best collection of Dil Shayari in Hindi.

Share these amazing Hindi Dil Shayari with your Friends and Family.

1.दिल के ज़ख्मों पर मत रो मेरे यार,
वक़्त हर ज़ख्म का मरहम होता है,
दिल से जो सच्चा प्यार करे…
उसका तो खुदा भी दीवाना होता है।

2.किरदार शिद्दत से निभाइये जिन्दगी में
कहानी तो एक दिन सभी को बनना है..!!

3.जीने के लिए तुम्हारी याद ही काफी है,
इस दिल में बस अब तुम ही बाकी हो,
आप तो भूल गए हो हमें अपने दिल से,
लेकिन हमें आज भी तुम्हारी तालाश बाकी है।

4.ज़िंदगी क्या करेगी, हिसाब-ऐ-तलब हमसे..
उसे भी मालूम है, कि लाज़बाब हैं हम…!!

5.मोह खत्म होते ही,, खोने का डर भी निकल जाता है…!*
चाहे दौलत हो, वस्तु हो या प्रेम हो फिर चाहे रिश्ता हो या जिंदगी…

6.नजरें मिला कर किया दिल को ज़ख़्मी,
अदाएं दिखा कर सितम ढहा रहे हो,
वफाओं का मेरी खूब सिला दिया है,
तड़पता हुआ छोड़ कर जा रहे हो।

7.अच्छा हुआ आशिकी करना
छोड़ दिया हमने
फालतू में कार्टून जैसी लड़की
को कटरीना कहना पड़ता था

8.पास आ जरा दिल की बात बताऊँ तुझको,
कैसे धड़कता है दिल आवाज़ सुनाऊं तुझको।

9.ऐ दिल मत कर इतनी मोहब्बत किसी से,
इश्क में मिला दर्द तू सह नहीं पायेगा,
टूट कर बिखर जायेगा अपनों के हाथो से,
किसने तोड़ा ये भी किसी से कह नहीं पयेगा।

10.जितना जलाया है तुमने प्यार में मुझको,
दिल तो करता है कि मैं भी जलाऊं तुझको।

11.अजनबी होता तो ऐसा कर भी लेता शायद ,
मगर तू तो अपना है कैसे सताऊं तुझको।

12.बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नही जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता,
वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता।

13.दिल अब पहले जेसा मासुम नही रहा..
पथर तो नही बना मगर अब मोम भी नही रहा ..

14.जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी!
अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी!

15.दिल में हर बात आज भी वही है
ज़ाहिर है तुझ पे मेरा हक़ नहीं है
देखते देखते यु मंज़र बदल गया
तू मेरा होकर भी मेरा नहीं है।

16.रात गुमसूँ है मगर चेन खामोश नही,
कैसे कहदू आज फिर होश नही,
ऐसा डूबा तेरी आखो की गहराई मैं,
हाथ में जाम है मगर पीने का होश नही.

17.सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था,
वो जो दिल मिला किसी काम का न था,
कलियाँ खिल रही थी हर गुल था ताज़ा,
मगर कोई भी फूल मेरे नाम का न था।

18.पलकों से रास्ते के कांटे हटा देंगे,
फूल तो क्या हम अपना दिल बिछा देंगे,
टूटने न देंगे हम इस प्यार को कभी,
बदले में हम खुद को मिटा देंगे।

19.करीब
तो बहुत हो तुम…
मग़र
सिर्फ ख्वाबों
औऱ ख्यालों में…

20.इक छोटी सी ही तो हसरत है
इस दिल ए नादान की,
कोई चाह ले इस कदर
कि खुद पर गुमान हो जाए।

21.शायरी लिखना कौन जाने,
शायरी तो खुद-बा-खुद बन जाती है,
जब दिल भर आता है तो,
कलम खुद-बा-खुद चल जाती है।

22.ना तसवीर है तुम्हारी जो दीदार किया जाये,
ना तुम हो मेरे पास जो प्यार किया जाये,
ये कौन सा दर्द दिया है तुमने ऐ सनम,
ना कुछ कहा जाये ना तुम बिन रहा जाये।

23.लगाके पंख सपनों के
देखो ये तो उड़ चला
उड़ चला उड़ चला
ये दिल |

24.दिल के ज़ख्मों पर मत रो मेरे यार,
वक़्त हर ज़ख्म का मरहम होता है,
दिल से जो सच्चा प्यार करे…
उसका तो खुदा भी दीवाना होता है।

25.उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं है,
ये दिल उसका है अपना होता तो और बात होती।

26.दिल के मामले में मुझे दख़्ल कुछ नहीं,
इसके मिज़ाज में जिधर आए उधर रहे।

27.तू ही बता ए दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,
मगर उस एहसास को ये एहसास दिलाऊं कैसे।

28.दिल लगता नहीं है अब तुम्हारे बिना,
खामोश से रहने लगे है तुम्हारे बिना,
जल्दी लौट के आ जाओ अब…
वरना जी ना पाएँगे तुम्हारे बिना।

29.वादे वफ़ा करके क्यों मुकर जाते हैं लोग,
किसी के दिल को क्यों तड़पाते हैं लोग,
अगर दिल लगाकर निभा नहीं सकते,
तो फिर क्यों दिल लगाते हैं लोग।

30.काश बनाने वाले ने दिल काँच का बनाया होता,
दिल तोड़ने वाले के हाथों में ज़ख्म तो आया होता,

जब भी वो देखता अपने हाथों की तरफ,
कम से कम उसे मेरा ख्याल तो आया होता।

31.निगाहों से तुम्हारे दिल का एक…
पैगाम लिख दूं…!!!
मुहब्बत वफ़ा का खुशनुमा अजांम…
लिख दूँ..!!!!
मेरे लबों पर तुम शायर बन के…
चले आओ…
सातों जनम दिल की धड़कनें तेरे नाम…
लिख दूं…!!!

32.फिर वही दिल की गुज़ारिश,
फिर वही उनका ग़ुरूर,
फिर वही उनकी शरारत,
फिर वही मेरा कुसूर।

33.लाखों में इंतेखाब के काबिल बना दिया,
जिस दिल को तुमने देख लिया दिल बना दिया,
पहले कहाँ ये नाज थे यह इशवा-ओ-अदा,
दिल को दुआएं दो तुम्हे कातिल बना दिया।

34.हम ने सीने से लगाया
दिल न अपना बन सका,
मुस्कुरा कर तुम ने देखा
दिल तुम्हारा हो गया।

35.दोस्त कहते है भाई, तेरा जैसा कमीना
नही देखा कभी,
में बोला भाई कभी देखोगे भी नहीं सिर्फ एक ही बचा है।

36.उनके हाथों ने छू लिया होगा मुझको,
वरना पत्थर दिल कहाँ पिघलते हैं।

37.सुनो ना..
ना वादे हैं..
ना कसमे हैं !
फिर भी कमबख्त.ये तेरे बस में है !

38.दिल में हर बात आज भी वही है
ज़ाहिर है तुझ पे मेरा हक़ नहीं है
देखते देखते यु मंज़र बदल गया
तू मेरा होकर भी मेरा नहीं है।

39.इक छोटी सी ही तो हसरत है
इस दिल ए नादान की,
कोई चाह ले इस कदर
कि खुद पर गुमान हो जाए।

40.दिल-ए-गुमराह को काश ये मालूम होता,
प्यार तब तक हसीन है जब तक नहीं होता।

41.तुझसे प्यार किया हे कोई गुनाह नही,
जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा |

42.ख्त्म कर दी थी…. जिन्दगी की ……हर खुशियाँ ….तुम पर,….

कभी फुर्सत मिले …..तो सोचना …..मोहब्बत किसने की थी……

43.इस दिल की सरहद को पार न करना,
नाज़ुक है मेरा दिल इस पर वार न करना,
खुद से बढ़कर भरोसा किया है तुम पर,
इस भरोसे को तुम बेकार न करना।

44.होती नहीं है मोहब्बत सूरत से,
मोहब्बत तो दिल से होती है,
सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी,
कदर जिनकी दिल में होती है।

45.तू रूठी रूठी सी लगती है कोई तरकीब बता मनाने की,
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूंगा तू क़ीमत बता मुस्कुराने की..!

46.मुझे नही पता कि ये बिगड़ गया या सुधर गया,
बस अब ये दिल किसी से मोहब्बत नही करता।

47.ये “दिल” ही है जिसे हारने की आदत हो गई !
वर्ना
जहाँ भी हमने “दिमाक” लगाया फतह ही पाई है !

48.आँसू नहीं हैं आँख में लेकिन तेरे बगैर,
तूफान छुपे हुए हैं दिले-बेकरार में।

49.भूल गए वो हमको
ये उनका अधिकार था

50.हम कैसे भूलते
हमको तो प्यार था |


51.रौशनी में कुछ कमी रह गई हो तो बता देना
ऐ सनम दिल आज भी हाजिर है जलने को।

52.फिर उसकी याद फिर उसकी आस फिर उसकी बातें,
ऐ दिल… लगता है तुझे तड़पने का बहुत शौक है।

53.बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर;
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर;
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर;
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर।

54.कोई शर्त नहीं है…कोई शिकायत नहीं है तुमसे..!!
बस सीधी सी मुहब्बत है… दीदार की चाहत है तुमसे…!!

55.इस से ज़्यादा तुम्हे..
इस से ज़्यादा तुम्हे और
कितना करीब लाऊँ मैं,

कि तुम्हे दिल में रख कर भी
मेरा दिल नहीं भरता ।

56.कहते हैं दिल से ज्यादा महफूज जगह नहीं
दूनिया में और कोई फिर भी ना जाने क्यों
सबसे ज्यादा यहीं से लोग लापता होते हैं !

57.इतना भी हमसे नाराज़ मत हुआ करो,*
बदकिस्मत ज़रूर हैं हम मगर बेवफा नहीं…”॥

58.मोह खत्म होते ही,, खोने का डर भी निकल जाता है…!*
चाहे दौलत हो, वस्तु हो या प्रेम हो फिर चाहे रिश्ता हो या जिंदगी…

59.निगाहें बोलती हैं जब जुबान खामोश रहती है,
दिलों की धड़कनें ही तब दिलों की बात कहती हैं।

60.जी तो चाहता है कि तुझे दिल में छुपा लूँ मैं
मगर न कभी वक़्त ने इजाजत दी ना तुमने।

61.जिस्म उसका भी मिट्टी का है मेरी तरह ऐ खुदा,
फिर भी मेरा दिल ही क्यूँ तड़पता है उसके लिए।

62.खुदा को याद करूँ…या करूँ_इवादत तुम्हारी*
ज़र्रे ज़र्रे में वो है …और कतरे कतरे में तुम | 

63.इस छोटे से दिल में किस किस को जगह दूँ मैं,
गम रहे,
दम रहे,
फरियाद रहे या तेरी याद।

64.काम अब कोई न आएगा बस इक दिल के सिवा,
रास्ते बंद हैं सब कूचा-ए-क़ातिल के सिवा।

65.अच्छा हुआ आशिकी करना
छोड़ दिया हमने
फालतू में कार्टून जैसी लड़की
को कटरीना कहना पड़ता था |

66.काश वो समझते इस दिल की तड़प को !
तो यूँ हमें रुसवा ना किया होता !

उनकी ये बेरुखी भी मंज़ूर थी हमें !
बस एक बार हमें समझ लिया होता !

67.उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं है,
ये दिल उसका है अपना होता तो और बात होती।

68.जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी!
अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी!

69.रात गुमसूँ है मगर चेन खामोश नही,
कैसे कहदू आज फिर होश नही,
ऐसा डूबा तेरी आखो की गहराई मैं,
हाथ में जाम है मगर पीने का होश नही.|

70कभी पिघलेंगे पत्थर भी
मोहब्बत की तपिश पाकर,

बस यही सोच कर हम
पत्थर से दिल लगा बैठे।

71.मेरा ‪ ‎Status सिर्फ एक ‪ ‎Trailer‬ है. 
पूरी ‪ ‎Film‬ देखनी है तो मुझसे  ‪ शादी *करनी पड़ेगी |

72.तेरे लिए कभी इस दिल ने बुरा नहीं चाहा,
ये और बात हैं कि मुझे ये साबित करना नहीं आया।

73.गुलाब तो टूट कर बिखर जाता है !
पर खुशबु हवा में बरकरार रहती है !

जाने वाले तो छोड़ के चले जाते हैं !
पर एहसास तो दिलों में बरकरार रहते हैं !

74.मुमकिन अगर हो सके तो वापस कर दो,
बिना दिल के अब हमारा दिल नहीं लगता।

75.मुझे नही पता कि ये बिगड़ गया या सुधर गया,
बस अब ये दिल किसी से मोहब्बत नही करता।

76.निगाहों से तुम्हारे दिल का एक…
पैगाम लिख दूं…!!!
मुहब्बत वफ़ा का खुशनुमा अजांम…
लिख दूँ..!!!!
मेरे लबों पर तुम शायर बन के…
चले आओ…
सातों जनम दिल की धड़कनें तेरे नाम…
लिख दूं…!!!

77.अजीब रंग का मौसम चला है कुछ दिन से,
नजर पे बोझ है और दिल खफा है कुछ दिन से,
वो और था जिसे तू जानता था बरसों से,
मैं और हूँ जिसे तू मिल रहा है कुछ दिन से।

78.अच्छी सूरत पे गजब टूट के आना दिल का,
याद आता है हमें हाय… ज़माना दिल का,
इन हसीनों का लड़कपन ही रहे या अल्लाह,
होश आता है तो याद आता है सताना दिल का।

79.पगली इन ठंड में जेब से हाथ निकालने का मन नहि करता
लेकिन तुझसे ċɦǟt करने के लिये ना जाने हिम्मत कहा से आजा ती हे |

80.दिल वो है जो फ़रियाद से भरा रहता है,
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते।

81.तजुर्बा कहता है
मोहब्बत से किनारा कर लूँ..

और दिल कहता है
ये तज़ुर्बा दोबारा कर लूँ।

82.मोहब्बत की गवाही
अपने होने की ख़बर ले जा,
जिधर वो शख़्स रहता है
मुझे ऐ दिल उधर ले जा।

83.हाल-ए-दिल तो खुल चुका है
हर शख्स पर,
हाँ मगर इस शहर में
इक बेखबर भी देखा है।

84.अनजाने में ये दिल न जाने क्या कर बैठा,
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा,
इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता,
और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा।

85.किसी के दिल में क्या छुपा है
ये बस खुदा ही जानता है,
दिल अगर बेनकाब होता
तो सोचो कितना फसाद होता।


86.अजनबी होता तो ऐसा कर भी लेता शायद ,
मगर तू तो अपना है कैसे सताऊं तुझको।

87.मोह खत्म होते ही,, खोने का डर भी निकल जाता है…!*
चाहे दौलत हो, वस्तु हो या प्रेम हो फिर चाहे रिश्ता हो या जिंदगी…|

88.तेरे रोने से उन्हें कोई
फर्क नहीं पड़ता ऐ दिल
जिनके चाहने वाले ज्यादा हो
वो अक्सर बे दर्द हुआ करते हैं।

89.किसी का क्या जो क़दमों पर जबीं-ए-बंदगी रख दी,
हमारी चीज थी हमने जहाँ जानी वहाँ रख दी,
जो दिल माँगा तो वो बोले ठहरो याद करने दो,
जरा सी चीज़ थी हमने न जाने कहाँ रख दी।

90.तू ही बता दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,
जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,
यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,
मगर उसको ये एहसास दिलाऊं कैसे।

91.जितना जलाया है तुमने प्यार में मुझको,
दिल तो करता है कि मैं भी जलाऊं तुझको।

92.​आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​,​
​कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​,​
​था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​,​
​कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​।

93.आकर तू देख ले दिल पे लिखा है नाम तेरा,
अगर कहे तो दिल चीर के दिखाऊ तुझको।

94इतना भी हमसे नाराज़ मत हुआ करो,*
बदकिस्मत ज़रूर हैं हम मगर बेवफा नहीं…”॥

I hope you liked the best collection of 101+ Dil Shayari in Hindi.

link 1

link2

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.