सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ  Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems
  • Save

Suryakant Tripathi “Nirala” Poems In Hindi | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला कविताये

अगर आप भी सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला कविताये पड़ना चाहते है तो हम आज इस आर्टिकल में १०+ Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi संग्रह किया है | हम आशा करते है की सूर्यकान्त त्रिपाठी जी के कविताएं आपको पसंद आएगी|

सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ हिंदी साहित्य के प्रमुख कवियों में से एक है | इन्होने बहुत सारे कविताये व् कहानियाँ, उपन्यास और निबंध भी लिखे हैं | महादेवी वर्मा , सुमत्रानन्दन पंत, जयशंकर प्रसाद, और सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ हिंदी साहित्य को जीवित रखने में बहुत बड़ा देन दिया है | वैसे तो ये बहुत सारे किताबे व कविताये लिख चुके है लेकिन हम आज इनके सुप्रसिद्ध कविताये के बारे में देखेंगे |

Suryakant Tripathi “Nirala” Poems In Hindi

  1. ध्वनि | परिमल | Suryakant Tripathi Nirala Poem Dhwani in Hindi
  2. भारती वन्दना | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” / Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi Bharat Vandana
  3. वर दे वीणावादिनी वर दे ! | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” Suryakant Tripathi Nirala Famous Poems in Hindi
  4. तोड़ती पत्थर | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi
  5. दलित जन पर करो करुणा | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Rachnaye
  6. वे किसान की नयी बहू की आँखें | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Kavitaye
  7. संध्या सुन्दरी | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi On Nature
  8. स्नेह-निर्झर बह गया है | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems on Love
  9. बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” Suryakant Tripathi Short Poems
  10. भिक्षुक | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Rachna
  11. मातृ वंदना | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” कविताएं
  12. जुही की कली | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”
  13. जागो फिर एक बार | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”
  14. मौन | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”| परिमल

ध्वनि | परिमल | Suryakant Tripathi Nirala Poem Dhwani in Hindi

अभी न होगा मेरा अन्त

अभी-अभी ही तो आया है
मेरे वन में मृदुल वसन्त-
अभी न होगा मेरा अन्त

हरे-हरे ये पात,
डालियाँ, कलियाँ कोमल गात!

मैं ही अपना स्वप्न-मृदुल-कर
फेरूँगा निद्रित कलियों पर
जगा एक प्रत्यूष मनोहर

पुष्प-पुष्प से तन्द्रालस लालसा खींच लूँगा मैं,
अपने नवजीवन का अमृत सहर्ष सींच दूँगा मैं,

द्वार दिखा दूँगा फिर उनको
है मेरे वे जहाँ अनन्त-
अभी न होगा मेरा अन्त।

मेरे जीवन का यह है जब प्रथम चरण,
इसमें कहाँ मृत्यु?
है जीवन ही जीवन
अभी पड़ा है आगे सारा यौवन
स्वर्ण-किरण कल्लोलों पर बहता रे, बालक-मन,

मेरे ही अविकसित राग से
विकसित होगा बन्धु, दिगन्त;
अभी न होगा मेरा अन्त।

परिमल / सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”
[quads id=RndAds]

भारती वन्दना | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi Bharat Vandana

भारति, जय, विजय करे
कनक-शस्य-कमल धरे!

लंका पदतल-शतदल
गर्जितोर्मि सागर-जल
धोता शुचि चरण-युगल
स्तव कर बहु अर्थ भरे!

तरु-तण वन-लता-वसन
अंचल में खचित सुमन
गंगा ज्योतिर्जल-कण
धवल-धार हार लगे!

मुकुट शुभ्र हिम-तुषार
प्राण प्रणव ओंकार
ध्वनित दिशाएँ उदार
शतमुख-शतरव-मुखरे!

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _भारती वन्दना
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _भारती वन्दना

वर दे वीणावादिनी वर दे ! | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” Suryakant Tripathi Nirala Famous Poems in Hindi

वर दे, वीणावादिनि वर दे !
प्रिय स्वतंत्र-रव अमृत-मंत्र नव
        भारत में भर दे !

काट अंध-उर के बंधन-स्तर
बहा जननि, ज्योतिर्मय निर्झर;
कलुष-भेद-तम हर प्रकाश भर
        जगमग जग कर दे !

नव गति, नव लय, ताल-छंद नव
नवल कंठ, नव जलद-मन्द्ररव;
नव नभ के नव विहग-वृंद को
        नव पर, नव स्वर दे !

वर दे, वीणावादिनि वर दे।

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _वर दे वीणावादिनी वर दे !
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _वर दे वीणावादिनी वर दे !

तोड़ती पत्थर | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi

वह तोड़ती पत्थर;
देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर-
वह तोड़ती पत्थर।

कोई न छायादार
पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार;
श्याम तन, भर बंधा यौवन,
नत नयन, प्रिय-कर्म-रत मन,
गुरु हथौड़ा हाथ,
करती बार-बार प्रहार:-
सामने तरु-मालिका अट्टालिका, प्राकार।

चढ़ रही थी धूप;
गर्मियों के दिन,
दिवा का तमतमाता रूप;
उठी झुलसाती हुई लू
रुई ज्यों जलती हुई भू,
गर्द चिनगीं छा गई,
प्रायः हुई दुपहर :-
वह तोड़ती पत्थर।

देखते देखा मुझे तो एक बार
उस भवन की ओर देखा, छिन्नतार;
देखकर कोई नहीं,
देखा मुझे उस दृष्टि से
जो मार खा रोई नहीं,
सजा सहज सितार,
सुनी मैंने वह नहीं जो थी सुनी झंकार।

एक क्षण के बाद वह काँपी सुघर,
ढुलक माथे से गिरे सीकर,
लीन होते कर्म में फिर ज्यों कहा-
“मैं तोड़ती पत्थर।”

दलित जन पर करो करुणा | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Rachnaye

दलित जन पर करो करुणा।
दीनता पर उतर आये
प्रभु, तुम्हारी शक्ति वरुणा।

हरे तन मन प्रीति पावन,
मधुर हो मुख मनभावन,
सहज चितवन पर तरंगित
हो तुम्हारी किरण तरुणा

देख वैभव न हो नत सिर,
समुद्धत मन सदा हो स्थिर,
पार कर जीवन निरंतर
रहे बहती भक्ति वरूणा।

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _दलित जन पर करो करुणा
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _दलित जन पर करो करुणा

वे किसान की नयी बहू की आँखें | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Kavitaye

नहीं जानती जो अपने को खिली हुई–
विश्व-विभव से मिली हुई,–
नहीं जानती सम्राज्ञी अपने को,–
नहीं कर सकीं सत्य कभी सपने को,
वे किसान की नयी बहू की आँखें
ज्यों हरीतिमा में बैठे दो विहग बन्द कर पाँखें;
वे केवल निर्जन के दिशाकाश की,
प्रियतम के प्राणों के पास-हास की,
भीरु पकड़ जाने को हैं दुनियाँ के कर से–
बढ़े क्यों न वह पुलकित हो कैसे भी वर से।

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _वे किसान की नयी बहू की आँखें
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _वे किसान की नयी बहू की आँखें

संध्या सुन्दरी | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems in Hindi On Nature

दिवसावसान का समय-
मेघमय आसमान से उतर रही है
वह संध्या-सुन्दरी, परी सी,
धीरे, धीरे, धीरे
तिमिरांचल में चंचलता का नहीं कहीं आभास,
मधुर-मधुर हैं दोनों उसके अधर,
किंतु ज़रा गंभीर, नहीं है उसमें हास-विलास।
हँसता है तो केवल तारा एक-
गुँथा हुआ उन घुँघराले काले-काले बालों से,
हृदय राज्य की रानी का वह करता है अभिषेक।
अलसता की-सी लता,
किंतु कोमलता की वह कली,
सखी-नीरवता के कंधे पर डाले बाँह,
छाँह सी अम्बर-पथ से चली।
नहीं बजती उसके हाथ में कोई वीणा,
नहीं होता कोई अनुराग-राग-आलाप,
नूपुरों में भी रुन-झुन रुन-झुन नहीं,
सिर्फ़ एक अव्यक्त शब्द-सा ‘चुप चुप चुप’
है गूँज रहा सब कहीं-

व्योम मंडल में, जगतीतल में-
सोती शान्त सरोवर पर उस अमल कमलिनी-दल में-
सौंदर्य-गर्विता-सरिता के अति विस्तृत वक्षस्थल में-
धीर-वीर गम्भीर शिखर पर हिमगिरि-अटल-अचल में-
उत्ताल तरंगाघात-प्रलय घनगर्जन-जलधि-प्रबल में-
क्षिति में जल में नभ में अनिल-अनल में-
सिर्फ़ एक अव्यक्त शब्द-सा ‘चुप चुप चुप’
है गूँज रहा सब कहीं-

और क्या है? कुछ नहीं।
मदिरा की वह नदी बहाती आती,
थके हुए जीवों को वह सस्नेह,
प्याला एक पिलाती।
सुलाती उन्हें अंक पर अपने,
दिखलाती फिर विस्मृति के वह अगणित मीठे सपने।
अर्द्धरात्री की निश्चलता में हो जाती जब लीन,
कवि का बढ़ जाता अनुराग,
विरहाकुल कमनीय कंठ से,
आप निकल पड़ता तब एक विहाग!

स्नेह-निर्झर बह गया है | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala Poems on Love

स्नेह-निर्झर बह गया है !
रेत ज्यों तन रह गया है ।

आम की यह डाल जो सूखी दिखी,
कह रही है-“अब यहाँ पिक या शिखी
नहीं आते; पंक्ति मैं वह हूँ लिखी
नहीं जिसका अर्थ-
          जीवन दह गया है ।”

“दिये हैं मैने जगत को फूल-फल,
किया है अपनी प्रतिभा से चकित-चल;
पर अनश्वर था सकल पल्लवित पल–
ठाट जीवन का वही
          जो ढह गया है ।”

अब नहीं आती पुलिन पर प्रियतमा,
श्याम तृण पर बैठने को निरुपमा ।
बह रही है हृदय पर केवल अमा;
मै अलक्षित हूँ; यही
          कवि कह गया है ।

बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” Suryakant Tripathi Short Poems

बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु!
पूछेगा सारा गाँव, बंधु!

यह घाट वही जिस पर हँसकर,
वह कभी नहाती थी धँसकर,
आँखें रह जाती थीं फँसकर,
कँपते थे दोनों पाँव बंधु!

वह हँसी बहुत कुछ कहती थी,
फिर भी अपने में रहती थी,
सबकी सुनती थी, सहती थी,
देती थी सबके दाँव, बंधु!

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _बाँधो न नाव इस ठाँव, बंधु

भिक्षुक | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” | Suryakant Tripathi Nirala ki Rachna

वह आता–
दो टूक कलेजे को करता, पछताता
पथ पर आता।

पेट पीठ दोनों मिलकर हैं एक,
चल रहा लकुटिया टेक,
मुट्ठी भर दाने को — भूख मिटाने को
मुँह फटी पुरानी झोली का फैलाता —
दो टूक कलेजे के करता पछताता पथ पर आता।

साथ दो बच्चे भी हैं सदा हाथ फैलाए,
बाएँ से वे मलते हुए पेट को चलते,
और दाहिना दया दृष्टि-पाने की ओर बढ़ाए।
भूख से सूख ओठ जब जाते
दाता-भाग्य विधाता से क्या पाते?
घूँट आँसुओं के पीकर रह जाते।
चाट रहे जूठी पत्तल वे सभी सड़क पर खड़े हुए,
और झपट लेने को उनसे कुत्ते भी हैं अड़े हुए !

ठहरो ! अहो मेरे हृदय में है अमृत, मैं सींच दूँगा
अभिमन्यु जैसे हो सकोगे तुम
तुम्हारे दुख मैं अपने हृदय में खींच लूँगा।

मातृ वंदना | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” कविताएं

नर जीवन के स्वार्थ सकल
बलि हों तेरे चरणों पर, माँ
मेरे श्रम सिंचित सब फल।

जीवन के रथ पर चढ़कर
सदा मृत्यु पथ पर बढ़ कर
महाकाल के खरतर शर सह
सकूँ, मुझे तू कर दृढ़तर;
जागे मेरे उर में तेरी
मूर्ति अश्रु जल धौत विमल
दृग जल से पा बल बलि कर दूँ
जननि, जन्म श्रम संचित पल।

बाधाएँ आएँ तन पर
देखूँ तुझे नयन मन भर
मुझे देख तू सजल दृगों से
अपलक, उर के शतदल पर;
क्लेद युक्त, अपना तन दूंगा
मुक्त करूंगा तुझे अटल
तेरे चरणों पर दे कर बलि
सकल श्रेय श्रम संचित फल

जुही की कली | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”

विजन-वन-वल्लरी पर
सोती थी सुहाग-भरी–स्नेह-स्वप्न-मग्न–
अमल-कोमल-तनु तरुणी–जुही की कली,
दृग बन्द किये, शिथिल–पत्रांक में,
वासन्ती निशा थी;
विरह-विधुर-प्रिया-संग छोड़
किसी दूर देश में था पवन
जिसे कहते हैं मलयानिल।
आयी याद बिछुड़न से मिलन की वह मधुर बात,
आयी याद चाँदनी की धुली हुई आधी रात,
आयी याद कान्ता की कमनीय गात,
फिर क्या? पवन
उपवन-सर-सरित गहन -गिरि-कानन
कुञ्ज-लता-पुञ्जों को पार कर
पहुँचा जहाँ उसने की केलि
कली खिली साथ।
सोती थी,
जाने कहो कैसे प्रिय-आगमन वह?
नायक ने चूमे कपोल,
डोल उठी वल्लरी की लड़ी जैसे हिंडोल।
इस पर भी जागी नहीं,
चूक-क्षमा माँगी नहीं,
निद्रालस बंकिम विशाल नेत्र मूँदे रही–
किंवा मतवाली थी यौवन की मदिरा पिये,
कौन कहे?
निर्दय उस नायक ने
निपट निठुराई की
कि झोंकों की झड़ियों से
सुन्दर सुकुमार देह सारी झकझोर डाली,
मसल दिये गोरे कपोल गोल;
चौंक पड़ी युवती–
चकित चितवन निज चारों ओर फेर,
हेर प्यारे को सेज-पास,
नम्र मुख हँसी-खिली,
खेल रंग, प्यारे संग

[quads id=RndAds]

जागो फिर एक बार | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”

जागो फिर एक बार!
प्यार जगाते हुए हारे सब तारे तुम्हें
अरुण-पंख तरुण-किरण
खड़ी खोलती है द्वार-
जागो फिर एक बार!

आँखे अलियों-सी
किस मधु की गलियों में फँसी,
बन्द कर पाँखें
पी रही हैं मधु मौन
अथवा सोयी कमल-कोरकों में?-
बन्द हो रहा गुंजार-
जागो फिर एक बार!

अस्ताचल चले रवि,
शशि-छवि विभावरी में
चित्रित हुई है देख
यामिनीगन्धा जगी,
एकटक चकोर-कोर दर्शन-प्रिय,
आशाओं भरी मौन भाषा बहु भावमयी
घेर रहा चन्द्र को चाव से
शिशिर-भार-व्याकुल कुल
खुले फूल झूके हुए,
आया कलियों में मधुर
मद-उर-यौवन उभार-
जागो फिर एक बार!

पिउ-रव पपीहे प्रिय बोल रहे,
सेज पर विरह-विदग्धा वधू
याद कर बीती बातें, रातें मन-मिलन की
मूँद रही पलकें चारु
नयन जल ढल गये,
लघुतर कर व्यथा-भार
जागो फिर एक बार!

सहृदय समीर जैसे
पोछों प्रिय, नयन-नीर
शयन-शिथिल बाहें
भर स्वप्निल आवेश में,
आतुर उर वसन-मुक्त कर दो,
सब सुप्ति सुखोन्माद हो,
छूट-छूट अलस
फैल जाने दो पीठ पर
कल्पना से कोमन
ऋतु-कुटिल प्रसार-कामी केश-गुच्छ।
तन-मन थक जायें,
मृदु सरभि-सी समीर में
बुद्धि बुद्धि में हो लीन
मन में मन, जी जी में,
एक अनुभव बहता रहे
उभय आत्माओं मे,
कब से मैं रही पुकार
जागो फिर एक बार!

उगे अरुणाचल में रवि
आयी भारती-रति कवि-कण्ठ में,
क्षण-क्षण में परिवर्तित
होते रहे प्रृकति-पट,
गया दिन, आयी रात,
गयी रात, खुला दिन
ऐसे ही संसार के बीते दिन, पक्ष, मास,
वर्ष कितने ही हजार-
जागो फिर एक बार!

मौन | सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला”| परिमल

बैठ लें कुछ देर,
आओ,एक पथ के पथिक-से
प्रिय, अंत और अनन्त के,
तम-गहन-जीवन घेर।
मौन मधु हो जाए
भाषा मूकता की आड़ में,
मन सरलता की बाढ़ में,
जल-बिन्दु सा बह जाए।
सरल अति स्वच्छ्न्द
जीवन, प्रात के लघुपात से,
उत्थान-पतनाघात से
रह जाए चुप,निर्द्वन्द ।

[quads id=RndAds]
सूर्यकांत त्रिपाठी _निराला_ कविताएँ _ Suryakant Tripathi _Nirala_ Poems _मौन
  • Save
सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कविताएँ _ Suryakant Tripathi Nirala Poems _मौन

हम आशा करते है की आपको Suryakant Tripathi Nirala Hindi Poems पसन्द आये होंगे | कृपया इन सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” कविताएं को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे.

Read More Poems Below:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap