Marriage Anniversary Poems in Hindi
  • Save

शादी की सालगिरह मुबारक कविता | Marriage Anniversary Poems in Hindi

Are you looking for the best Marriage Anniversary Poems in Hindi? then here we have the best collection of शादी की सालगिरह मुबारक कविता | Marriage Anniversary Poems in Hindi.

9 Best Marriage Anniversary Poems | शादी की सालगिरह मुबारक कविता

  1. Anniversary Poem in Hindi for Parents from Daughter
  2. शादी की सालगिरह की बधाई कविता |विवाह की वर्षगांठ पर कविता
  3. 25th Wedding Anniversary Poems in Hindi | 25 वीं शादी की सालगिरह मुबारक
  4. Anniversary Poem in Hindi for Husband
  5. शादी की सालगिरह पर हास्य कविता
  6. 50th Marriage Anniversary Poems in Hindi
  7. Poem on Marriage in Hindi
  8. Love Anniversary Poems in Hindi
  9. शादी की स्वर्ण जयंती पर कविता

Anniversary Poem in Hindi for Parents from Daughter

जगमगाती रहे चाँद सी रोशनी ।
नीला गगन संग अम्बार लेकर ।
रौनक भरे जिंदगी में गजल
ख़ुशियाँ लुटाये जग में नवी बन ।
नीले गगन से दिनकर भी पूछे
कैसी फ़िज़ा है मेरे यार की ।।
नीले गगन में मेंघों की गर्जन
खुशियाँ बिखेरे तबस्सुम के जैसी ।।
जीवन की नौका मचलती रहे
प्रेम की माँझी में नित संवरती रहे।।
जीवन भी मुस्कान बिखेरे फूल खिले।
रिमझिम सावन नीर मिले ।।

शादी की सालगिरह की बधाई कविता | विवाह की वर्षगांठ पर कविता

साल भर बाद फिर वह दिन आया।
दिल दहला और तन थर्राया।।

मोबाइल पर मैसेज आने लगे धकाधक।
प्रिय शादी की सालगिरह मुबारक।।

पति का माइंड हर बार की तरह अपसेट।
कारण हर साल वाइफ नए रूप में अपडेट।।

पहली सालगिरह तक थी बड़ी स्वीट।
अब तो कड़वी हो गयी कम्पलीट।।

सुनती कम सुनाती है ज्यादा।
प्यार कम गुस्सा ज्यादा।।

विवाह की पहली वर्षगांठ तक तो था यह सब विपरीत।
फिर हर वर्षगांठ के साथ गायब हुई प्रीत।

प्रीत की जगह अब दी सिर्फ हैप्पी विश।
पहली सालगिरह पर तो मिले थे धड़ाधड़ किस्स।।

अब किस्स नहीं सिर्फ दी एक मुस्कान।
साथ में बोली चलो दूर हटो बहुत है काम।।

काम करते-करते कैसे साल दिया निकाल।
प्यार से की थी शादी, अब शादी से प्यार दिया निकाल।।

वेडिंग एनिवर्सरी ने फिर याद दिलायी प्यार की।
लेकिन अब दोनों के लिए अब याद बस उपहार की।

सो उपहार तक ना रह जाये शादी का यह जन्मदिन।
फिर से प्यार करो पैदा जैसा था शादी के पहले दिन।।

25th wedding anniversary poems in hindi | 25 वीं शादी की सालगिरह मुबारक

आप दोनों की जोड़ी कभी न टूटे,
ख़ुदा करे आप एक दुसरे से कभी न रूठे,
यूँ ही एक होकर आप ये जिन्दगी बिताएँ,
आप दोनों से खुशियों के एक पल भी ना छूटे…
हालांकि कोठरी में एक घूंघट है,
हम सब दुल्हन को मान्यता देते हैं
और दुल्हन अभी भी एक है!
आप जोड़ना चाहते हैं
उपलब्धियां हर साल,
किनारे से
दु: ख और परेशानी के मार्ग
दुल्हन की दुल्हन को दुल्हन दें
एक सुंदर शादी के नृत्य में,
उन्हें सद्भाव में रहते हैं,
एक शादी में मजबूत, बहुत भावुक!

एक सालगिरह के साथ! अगर हम सुनते हैं
इस दिन, हम जोड़े हंसी,
तो उनकी शादी नतीजतन है
बड़ी सफलता पर!
तो सब कुछ है जैसा वे चाहिए,
जैसा कि वे चाहते थे कि वे थे
इसलिए, हम उन्हें चाहते हैं,
ताकि वे इस तरह रहें!

शादी की सालगिरह पर!
हम आपको चाहते हैं,
अपने जीवन में आरक्षित,
आपको इतना क्या चाहिए:
खुशी, खुशी, शुभकामनाएं,
और उत्साह की सफलता के लिए,
कभी-कभी शांति,
कभी-कभी – धैर्य

Anniversary Poem in Hindi for Husband

सालगिरह पर बधाई!
हालांकि कोठरी में एक घूंघट है,
हम सब दुल्हन को मान्यता देते हैं
और दुल्हन अभी भी एक है!
आप जोड़ना चाहते हैं
उपलब्धियां हर साल,
किनारे से
दु: ख और परेशानी के मार्ग
दुल्हन की दुल्हन को दुल्हन दें
एक सुंदर शादी के नृत्य में,
उन्हें सद्भाव में रहते हैं,
एक शादी में मजबूत, बहुत भावुक!

सालगिरह पर बधाई!
जल्दी शादी शोर लग रहा था,
एक साल में मजबूत परिवार
आपके सौ गुना बनने में कामयाब रहा है
बधाई स्वीकार करने के लिए,
हम चाहते हैं समृद्धि,
हर साल बधाई देने का अधिकार
उसके पीछे हम छोड़ देते हैं
अपने रैंकों के परिवारों को चलो
केवल फिर से भरना,
दो पत्नियों के सपने को दो
जल्दी निष्पादित!

शादी की सालगिरह पर हास्य कविता

एक सालगिरह के साथ! अगर हम सुनते हैं
इस दिन, हम जोड़े हंसी,
तो उनकी शादी नतीजतन है
बड़ी सफलता पर!
तो सब कुछ है जैसा वे चाहिए,
जैसा कि वे चाहते थे कि वे थे
इसलिए, हम उन्हें चाहते हैं,
ताकि वे इस तरह रहें!

50th Marriage Anniversary Poems in Hindi

कैसे निकल गए हमारी शादी के ये ५० साल
पता ही नहीं चला मेरी बीवी इतनी बेमिसाल
दुःख में सुख में सदा मेरे साथ रही
कोई भी बात हो सदा “हमारी” बात रही
मेरे जीवन को उसने रंगों से भर दिया
आभारी हूँ प्रभु जो ऐसा हमसफ़र दिया
-अनुष्का सूरी

Poem on Marriage in Hindi

तुम्हारे साथ बीत गये
कितने लम्हे कितने साल
पर सच पूछो तो बतलाऊं
दिल का मेरे वही है हाल
जब भी देखू तुमको मैं
धड़कनें बढ़ जाती है
सामने तुमको पा कर आज भी
मन ही मन मुस्काते है
कितना अच्छा  रहा है देखो
मेरा इस जन्म नसीब
साथ तुम्हारा मिल गया मुझको
तुम हो मेरे सबसे करीब।

Love Anniversary Poems in Hindi

आज हमारा इश्क़ थोड़ा
और सयाना हो गया,
दिल ने कभी जो ख्वाब न देखे,

वो सब अब हक़ीक़त हो गया…

हर लत से मुझको तौबा ही था,
पर तुम्हारे साथ का आदत हो गया,
जो कभी जीवन मे उतरेगा नहीं,
वो नशा है मुझको हो गया..

तुमसे मिलके दिल ये मेरा,
है खुदा का जन्नत हो गया,
पलते है मुझमें हर ख़्वाहिशें तुमसे,
कि तू मेरा होना है हो गया..

आज हमारा इश्क थोड़ा
और सयाना हो गया..

शादी की स्वर्ण जयंती पर कविता

सालगिरह आती रही,
सालगिरह जाती रही,
पर ना खोल सका उन गिरहों को कोई
जो वक़्त ने बाँध रक्खी थीं,
ऐसा क्या ओर क्यों कर था
कि उनका सिरा भी ना मिला?
शायद वो सिरे कहीं दूर थे,
हमारी अपनी पहुँच से दूर,
बहुत दूर अनंत में गढ़े हुए,
या हमारे अपने हाथों की छाप में मढ़े हुए?
कौन जाने ?
जतन मैंने भी किये बेहिसाब,
चाहा तुमने भी बहुत,
पर शायद वक़्त ने सराहा ही नहीं,
वरना क्या वजह हो सकती थी
कि ज़िन्दगी भर साथ चलने के बावजूद
हम किनारों की तरह किनारों पर ही रहे ?
एक किनारा तेरा था,
एक किनारा मेरा भी,
शायद वक़्त ही ठीक से बाँधना भूल गया था
सप्तपदी की गिरह को,
या भूल गया था कोई ऐसी गिरह
जो दोनों किनारों को बाँध पाती,
या दोनों को ले जाकर
छोड़ देता किसी सागर में?
शायद मिल ही जाती वजह
हमें अगली सालगिरह के इंतज़ार की!

-दीपक कुलश्रेष्ठा

I hope you liked the शादी की सालगिरह मुबारक कविता | Marriage Anniversary Poems in Hindi. Please share these Marriage Anniversary Hindi poems with your friends.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap