|

9+ Shiv Kumar Batalvi Poems

Are you looking for the best Shiv Kumar Batalvi Poems? Then here we have the Shiv Kumar Batalvi Poems | शिव कुमार बटालवी कविताए.

Best Shiv Kumar Batalvi Poems | शिव कुमार बटालवी कविताए

  1. हयाती नूं Shiv Kumar Batalvi Poems
  2. याद Shiv Kumar Batalvi Poems
  3. मेरे राम जीओ Shiv Kumar Batalvi Poems
  4. मैनूं विदा करो Shiv Kumar Batalvi Poems
  5. मैं अधूरे गीत दी इक सतर हां Shiv Kumar Batalvi Poems
  6. मिरचां दे पत्तर Shiv Kumar Batalvi Poems
  7. सच्चा साध Shiv Kumar Batalvi Poems
  8. माए नी माए Shiv Kumar Batalvi Poems
  9. आज फिर दिल गरीब इक पाउँदा है वास्ता Shiv Kumar Batalvi Poems

1.हयाती नूं | Shiv Kumar Batalvi Poems

चुग लए जेहड़े मैं चुगने सन
मानसरां ‘चों मोती ।
हुन तां मानसरां विच मेरा
दो दिन होर बसेरा ।

घोर स्याहियां नाल पै गईआं
हुन अड़ीयो कुझ सांझां
ताहींयों चानणियां रातां विच
जी नहीं लग्गदा मेरा ।

उमर अयालन छांग लै गई
हुसनां दे पत्ते सावे,
हुन तां बालन बालन दिसदा
अड़ीयो चार चुफ़ेरा ।

फूको नी हुन लीर पटोले
गुड्डियां दे सिर साड़ो,
मार दुहत्थड़ां पिट्टो नी
हुन मेरे मर गए हानी ।

झट्ट करो नी खा लओ टुक्कर
हत्थ विच है जो फड़िआ
औह वेखो नी ! चील्हि समें दी
उड्ड पई आदम-खानी ।

डरो ना लंघ जान दिअो अड़ीओ
कांगां नूं कंढ्यां तों
डीक लैणगियां भुब्बल होईआं
रेतां आपे पानी ।

रीझां दी जे संझ हो गई
तां की होया जिन्दे
होर लंमेरे हो जांदे ने
संझ पई परछावें ।

कलवल होवो ना नी एदां
वेख लगदियां लोआं
उह बूटा घट्ट ही पलदा है
जो उग्गदा है छावें ।

2.याद | Shiv Kumar Batalvi Poems

इह किस दी अज्ज याद है आई
चन्न दा लौंग बुरजियां वाला
पा के नक्क विच रात है आई
पुत्तर पलेठी दा मेरा बिरहा
फिरे चाननी कुच्छड़ चाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

उड्डदे बद्दलां दा इक खंडर
विच चन्ने दी मक्कड़ी बैठी
बिट्ट-बिट्ट देखे भुक्खी-भाणी
तार्यां वल्ले नीझ लगाई
रिशमां दा इक जाल विछाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

उफ़क जिवें सोने दी मुन्दरी
चन्न जिवें विच सुच्चा थेवा
धरती नूं अज्ज गगनां भेजी
पर धरती दे मेच ना आई
विरथा सारी गई घड़ाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

रात जिवें कोयी कुड़ी झ्यूरी
पा बद्दलां दा पाटा झग्गा
चुक्की चन्न दी चिब्बी गागर
धरती दे खूहे ‘ते आई
टुरे विचारी ऊंधी पाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

अम्बर दे अज्ज कल्लरी थेह ‘ते
तारे जीकन रुलदे ठीकर
चन्न किसे फक्कर दी देहरी
विच रिशमां दा मेला लग्गा
पीड़ मेरी अज्ज वेखन आई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

इह किस दी अज्ज याद है आई
चन्न दा लौंग बुरजियां वाला
पा के नक्क विच रात है आई
पुत्तर पलेठी दा मेरा बिरहा
फिरे चाननी कुच्छड़ चाई
इह किस दी अज्ज याद है आई ।

3.मेरे राम जीओ | Shiv Kumar Batalvi Poems

तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

किथे सउ जद अंग संग साडे
रुत्त जोबन दी मौली
किथे सउ जद तन मन साडे
गयी कथूरी घोली
किथे सउ जद साह विच चम्बा
चेतर बीजन आए
मेरे राम जीउ
तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

किथे सउ मेरे प्रभ जी
जद इह कंजक जिन्द निमाणी
नीम-प्याज़ी रूप-सरां दा
पी के आई पाणी
किथे सउ जद धरमी बाबल
साडे काज रचाए
मेरे राम जीउ
तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

किथे सउ जद नहुं टुक्कदी दे
सउन महीने बीते
किथे सउ जद महकां दे
असां दीप चमुखीए सीखे
किथे सउ उस रुत्ते
ते तुसीं उदों क्युं ना आए
मेरे राम जीउ
तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

किथे सउ जद जिन्द मजाजण
नां लै लै कुरलाई
उमर-चन्दोआ तान विचारी
ग़म दी बीड़ रखाई
किथे सउ जद वाक लैंद्यां
होंठ ना असां हिलाए
मेरे राम जीउ
तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

हुन तां प्रभ जी ना तन आपणा
ते ना ही मन आपणा
बेहे फुल्ल दा पाप वडेरा
द्युते अग्गे रक्खणा
हुन तां प्रभ जी बहुं पुन्न होवे
जे जिद खाक हंढाए
मेरे राम जीउ ।
तुसीं केहड़ी रुत्ते आए
मेरे राम जीउ ।
जदों बाग़ीं फुल्ल कुमलाए
मेरे राम जीउ ।

4.मैनूं विदा करो | Shiv Kumar Batalvi Poems

मैनूं विदा करो मेरे राम
मैनूं विदा करो
कोसा हंझ शगन पाउ सानूं
बिरहा तली धरो ।
ते मैनूं विदा करो ।

वारो पीड़ मेरी दे सिर तों
नैण-सरां दा पाणी
इस पानी नूं जग्ग विच वंडो
हर इक आशक ताणीं
प्रभ जी जे कोयी बून्द बचे
उहदा आपे घुट्ट भरो
ते मैनूं विदा करो
कोसा हंझ शगन पाउ सानूं
बिरहा तली धरो ।
ते मैनूं विदा करो ।

प्रभ जी एस विदा दे वेले
सच्ची गल्ल अलाईए
दान कराईए जां कर मोती
तां कर बिरहा पाईए
प्रभ जी हुन तां बिरहों-वेहूणी
मिट्टी मुकत करो
ते मैनूं विदा करो
कोसा हंझ शगन पाउ सानूं
बिरहा तली धरो ।
ते मैनूं विदा करो ।

दुद्ध दी रुत्ते अंमड़ी मोई
बाबल बाल वरेसे
जोबन रुत्ते सज्जन मर्या
मोए गीत पलेठे
हुन तां प्रभ जी हाड़ा जे
साडी बांह ना घुट्ट फड़ो
मैनूं विदा करो ।
कोसा हंझ शगन पाउ सानूं
बिरहा तली धरो ।
ते मैनूं विदा करो ।

 5.मैं अधूरे गीत दी इक सतर हां | Shiv Kumar Batalvi Poems

मैं अधूरे गीत दी इक सतर हां
मैं अपैरी-पैड़ दा इक सफ़र हां

इशक ने जो कीतिया बरबादियां
मै उहनां बरबादियां दी सिख़र हां

मैं तेरी महफ़ल दा बुझ्या इक चिराग़
मंै तेरे होठां ‘चों किर्या ज़िकर हां

इक ‘कल्ली मौत है जिसदा इलाज
चार दिन दी ज़िन्दगी दा फ़िकर हां

जिस ने मैनूं वेख के ना वेख्या
मै उहदे नैणां दी गुंगी नज़र हां

मैं तां बस आपना ही चेहरा वेखिऐ
मैं वी इस दुनियां च कैसा बशर हां

कल्ल्ह किसे सुण्या है ‘शिव’ नूं कहन्द्यां
पीड़ लई होया जहां विच नशर हां ।

6.मिरचां दे पत्तर | Shiv Kumar Batalvi Poems

पुन्निआं दे चन्न नूं कोई मस्सिआ
कीकण अरघ चढ़ाए वे
क्यों कोई डाची सागर ख़ातर
मारूथल छड्ड जाए वे ।

करमां दी महिंदी दा सज्जणा
रंग किवें दस्स चढ़दा वे
जे किसमत मिरचां दे पत्तर
पीठ तली ‘ते लाए वे ।

ग़म दा मोतिया उतर आया
सिदक मेरे दे नैणीं वे
प्रीत नगर दा औखा पैंडा
जिन्दड़ी किंज मुकाए वे ।

किक्करां दे फुल्लां दी अड़िआ
कौन करेंदा राखी वे
कद कोई माली मल्हिआं उत्तों
हरियल आण उडाए वे ।

पीड़ां दे धरकोने खा खा
हो गए गीत कसैले वे
विच नड़ोए बैठी जिन्दू
कीकण सोहले गाए वे ।

प्रीतां दे गल छुरी फिरेंदी
वेख के किंज कुरलावां वे
लै चांदी दे बिंग कसाईआं
मेरे गले फसाए वे ।

तड़प तड़प के मर गई अड़िआ
मेल तेरे दी हसरत वे
ऐसे इश्क दे ज़ुलमी राजे
बिरहों बाण चलाए वे ।

चुग चुग रोड़ गली तेरी दे
घुंगणियां वत्त चब्ब लए वे
‘कट्ठे कर कर के मैं तील्हे
बुक्कल विच धुखाए वे ।
इक चूली वी पी ना सकी
प्यार दे नित्तरे पानी वे
विंहदिआं सार पए विच पूरे
जां मैं होंठ छुहाए वे ।

 7.सच्चा साध | Shiv Kumar Batalvi Poems

तद भागो दे घर बाहमणां दी
आ लत्थी इक जंञ
कयी साधू, गुनी महातमा
कन्न पाटे नांगे नंग
कयी जटा जटूरी धारीए
इकनां दी होयी झंड
इकनां सिर जुड़ियां लिंभियां
इकनां दे सिर विच गंज
इकनां दियां गज़ गज़ बोदियां
ते गल सूतर दी तन्द
इक मल के आए भबूतियां
ज्युं नील कंठ दा रंग
होए ख़ाली मट्ठ जहान दे
आए डेरे छड्ड मलंग
इक आए अक्क धतूरा पींवदे
इकनां ने पीती भंग
खा खीरां इंज डकारदे
ज्युं घोगड़ कां दा संघ
पर सच्चा साध ना परत्या
उस कोधरा खाधा मंग ।

8.माए नी माए | Shiv Kumar Batalvi Poems

माए नी माए
मेरे गीतां दे नैणां विच
बिरहों दी रड़क पवे
अद्धी अद्धी रातीं
उट्ठ रोन मोए मित्तरां नूं
माए सानूं नींद ना पवे ।

भें भें सुगंधियां ‘च
बन्न्हां फेहे चाननी दे
तां वी साडी पीड़ ना सवे
कोसे कोसे साहां दी
मैं करां जे टकोर माए
सगों सानूं खान नूं पवे ।

आपे नी मैं बालड़ी
मैं हाले आप मत्तां जोगी
मत्त केहड़ा एस नूं दवे
आख सू नी माए इहनूं
रोवे बुल्ल्ह चित्थ के नी,
जग्ग किते सुन ना लवे ।

आख सू नी खा लए टुक्क
हजरां दा पक्क्या
लेखां दे नी पुट्ठड़े तवे
चट्ट लए त्रेल लूणी
ग़मां दे गुलाब तों नी
कालजे नूं हौसला रव्हे ।

केहड़्यां सपेर्यां तों
मंगां कुंज मेल दी मैं
मेल दी कोयी कुंज दवे
केहड़ा इहनां दम्मां द्यां
लोभियां दे दरां उत्ते
वांग खड़्हा जोगियां रव्हे ।

पीड़े नी पीड़े
इह प्यार ऐसी तितली है
जेहड़ी सदा सूल ते बव्हे
प्यार ऐसा भौरा है नी
जिद्हे कोलों वाशना वी
लक्ख कोहां दूर ही रव्हे ।

प्यार उह महल्ल है नी
जिद्हे च पंखेरूआं दे
बाझ कोयी होर ना रव्हे
प्यार ऐसा आंङना है
जिद्हे च नी वसलां दा
रत्तड़ा ना पलंघ डव्हे ।

आख माए अद्धी अद्धी रातीं
मोए मित्तरां दे
उच्ची-उच्ची नां ना लवे
मते साडे मोयां पिच्छों
जग्ग इह शरीकड़ा नी
गीतां नूं वी चन्दरा कव्हे ।

माए नी माए
मेरे गीतां दे नैणां विच
बिरहों दी रड़क पवे
अद्धी अद्धी रातीं
उट्ठ रोन मोए मित्तरां नूं
माए सानूं नींद ना पवे ।

9.आज फिर दिल गरीब इक पाउँदा है वास्ता | Shiv Kumar Batalvi Poems

आज फिर दिल गरीब इक पाउँदा है वास्ता,
दे जा मेरी अज कलम नू इक होर हादसा

मुददत होइ है दर्द दा कोई जाम पीतियाँ ,
पीडां च हन्जू घोल के , दे जा दो आताशा

कागज़ दी कोरी रीझ है चुप चाप वेखदी ,
शब्दां दे थल च भटकदा गीतां दा काफिला

तुरना मैं चौन्दां पैर विच कंडे दी ले के पीड ,
दुःख तो खबर तक दोस्ता जिना भी फासला ,

आ बौड़ शिव नु पीड भी है कंडे दी चली ,
रखी सी जेह्ड़ी उस ने मुददत तो दास्ताँ

I hope you liked the Shiv Kumar Batalvi Poems | शिव कुमार बटालवी कविताए. Please share these Poems by Shiv Kumar Batalvi With your freinds.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *